कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया ? – who are the inventor of computer

आपने भी कभी न कभी सोचा होगा की कम्प्युटर (computer) का आविष्कार किसने किया ? या कंप्यूटर कब और किसने बनाया? ,भारत में कंप्यूटर का आविष्कार कब हुआ था? सबसे पहला कंप्यूटर का नाम क्या था यसेस बहुत सारे सवाल भी आपके मन मे आते होगे आज हम इस सभी सवालो  का जवाब आपको देने वाले है ।

कम्प्युटर का इतिहास 19 वी सदी मे कुछ बहुत पुरानी डिजाइनों के साथ शुरू हुआ और 20वीं सदी के दौरान दुनिया मे कम्प्युटर ने दुनिया को बदल दिया है । तो आइये कम्प्युटर के बारे मे जानते है ।

computer

कंप्यूटर का इतिहास 200 साल से अधिक पुराना है। पहली बार गणितज्ञों और उद्यमियों द्वारा सिद्धांतित, 19 वीं शताब्दी के दौरान यांत्रिक गणना मशीनों को तेजी से जटिल संख्या-क्रंचिंग चुनौतियों को हल करने के लिए डिज़ाइन और निर्मित किया गया था।

प्रौद्योगिकी की प्रगति ने 20वीं शताब्दी की शुरुआत तक और अधिक जटिल कंप्यूटरों को सक्षम किया, और कंप्यूटर बड़े और अधिक शक्तिशाली हो गए। जिनके मदद से सभी काम बड़ी आसानी से हो जाते है । और इनका आकार भी छोटा होता गया , कंप्यूटर 19वीं सदी के डिजाइनों से लगभग पहचाने नहीं जा सकते, जैसे चार्ल्स बैबेज का एनालिटिकल इंजन – या यहां तक ​​कि 20वीं सदी के विशाल कंप्यूटरों से भी, जो पूरे कमरे पर कब्जा कर लेते थे, जैसे कि इलेक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इंटीग्रेटर और कैलकुलेटर। यहां कंप्यूटरों का एक संक्षिप्त इतिहास दिया गया है, की किस तरह क्प्म्पुटर ने दुनिया को बदला ।


Table of Contents

कंप्यूटर का खोज किसने किया था?

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया (who are the inventor of computer) ,कम्प्युटर का आविष्कार या कंप्यूटर के आविष्कारक कौन है? तो उनका नाम (name of computer inventor) चार्ल्स बैबेज, (जन्म 26 दिसंबर, 1791, लंदन, इंग्लैंड-निधन 18 अक्टूबर, 1871, लंदन), अंग्रेजी गणितज्ञ और आविष्कारक, जिन्हें पहले स्वचालित डिजिटल कंप्यूटर की कल्पना करने का श्रेय दिया जाता है।

सर्वप्रथम कंप्यूटर की खोज 1833 में Charles Babbage ने Analytical Engine का आविष्कार किया जो कि एक General-Purpose Computer था लेकिन पैसे की कमी होने के कारण वह इस काम को पूरा नहीं कर सके. 1871 में Charles Babbage की मौत हो गई. इसके बाद 40 साल बाद 1888 में Charles Babbage के बेटे Henry Babbage ने इस काम को पूरा किया.उन्होने एक  Analytical Engine सभी तरह की Calculations करता था.

Charles Babbage को कंप्यूटर का पिता भी बोला  जाता है उन्हें विश्व के पहले मैकेनिकल कंप्यूटर के सिद्धांत की खोज करने का श्रेय दिया जाता है.

भले ही आज भी कई लोगों के बीच यह मान्यता है कि 1622 में आया Abacus दुनिया का पहला कंप्यूटर था. जिसका William Oughtred द्वारा आविष्कार किया गया था.लेकिन आज हम जिन आधुनिक कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं इन कंप्यूटर्स की analytical engine ने ही नींव रखी थी. जिसकी शुरुआत ब्रिटिश गणितज्ञ चार्ल्स बेबेज द्वारा 1833 से 1871 के बीच की गई थी.


कंप्यूटर का आविष्कार किस देश में हुआ ?

John Vincent Atanasoff ने दुनिया का सबसे पहला इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर का आविष्कार किया था. सन 1945 में J. Presper Eckert और John Mauchly ने ENIAC (Electronic Numerical Integrator and Computer) का आविष्कार किया था. इसे उन्होंने university of Pennsylvania में किया था. जो की लंदन मे है । तो कम्प्युटर सबसे पहेले लंदन मे  बना था । computer ka avishkar kisne kiya इसके बारे मे आप अब जान चुके होंगे । 


पहला प्रोग्रामेबल कंप्यूटर कब बनाया गया था?

1938 में पहला Programmable Computer बनाया गया जिसका नाम z1 था जिसे Konrad Zuse के द्वारा Design किया गया था.

फिर 23 December, 1947 में William Shockley, John Bardeen, और Walter Houser Brattain के द्वारा Transistor का आविष्कार किया गया जो कि कंप्यूटर के Field में बहुत ही Useful साबित हुआ. Transistor के आ जाने के बाद कंप्यूटर के Size में काफी Changes होने लगे.

जिस कंप्यूटर को रखने के लिए एक पूरे कमरे की जरूरत पड़ती थी, Transistor के अविष्कार के बाद उस कंप्यूटर का Size भी छोटा हो गया जिसे कि आसानी से Handle किया जा सकता था. जिसके बाद कम्प्युटर का विकास और भी तेज गति से हो पाया ।


सबसे पहला कंप्यूटर का नाम क्या था ?

सन 1945 में J.Presper Eckert और John Mauchly के द्वारा द्वारा दुनिया का सबसे पहले Electronic Computer ENIAC (Electronic Numerical Integrator And Computer) का आविष्कार किया गया. जिसे गणितीय कैलक्युलेशन के लिए उपयोग किया जाता था ।


पहला पर्सनल कंप्यूटर किसने बनाया और कब ?

computer

जब transistor का आविष्कार किया गया तो ये कम्प्युटर के क्षेत्र मे एक बहुत बड़ी खोज थी  जिसके उपयोग से कम्प्युटर का आकार छोटा हो गया । और  इन्हे बनान बहुत आसान हो गया । सन 1975 में दुनिया का सबसे पहला Personal Computer, Altair 8800 Ed Robert के द्वारा Introduce किया गया लेकिन कई लोगों के द्वारा 1971 में Launch किया गया Kenbak-I कंप्यूटर को ही दुनिया का सबसे पहला Personal Computer माना जाता है.

इस कंप्यूटर के Launch के साथ ही कंप्यूटर Field में एक नई Term Personal Computer को Launch किया गया जिसे आज हम Short-form में PC कहते हैं. जो की आज भी बहुत popular है जिंका उपयोग बहुत सारी जगह मे किया जाता है ।

 


दुनिया के पहले कमर्शियल कंप्यूटर का आविष्कार कब किया गया?

14 जनवरी 1951 को UNIVAC नामक दुनिया का पहला कमर्शियल कंप्यूटर लॉन्च किया गया. यूनीवैक का पूरा नाम “यूनिवर्सल ऑटोमेटेड कंप्यूटर” था.

Commercial कंप्यूटर्स को industrial computers भी कहा जाता है, सामान्य कंप्यूटर्स की तुलना में कमर्शियल कंप्यूटर में Tasks को करने के लिए अधिक हार्डवेयर की रिक्वायरमेंट होती है. जो उन सभी कामो को जल्दी से कर सके ।


प्रथम इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर का आविष्कार कब हुआ ?

1937 में John Vincent Atanasoff और Clifford Berry के द्वारा ABC (Atanasoff-Berry Computer) का आविष्कार किया गया जिसका इस्तेमाल बहुत सारी Calculations करने के लिए किया जाता था. जो की सबसे पहले कम्प्युटर थे पर इनका आकार बहुत बड़ा था ।


सर्वप्रथम कंप्यूटर का यांत्रिक कोड किसने बनाया ?

1812 में बैबेज ने एनालिटिकल सोसाइटी की स्थापना में मदद की, जिसका उद्देश्य यूरोपीय महाद्वीप के विकास को अंग्रेजी गणित में पेश यांत्रिक रूप से गणितीय तालिकाओं की गणना करने का विचार पहली बार 1812 या 1813 में बैबेज के पास आया। बाद में उन्होंने एक छोटा कैलकुलेटर बनाया जो कुछ गणितीय गणनाओं को आठ दशमलव तक कर सकता था। चार्ल्स बैबेज ने सन् 1822 में एक यांत्रिक गणना मशीन का निर्माण किया था, जो ब्रिटिश सरकार द्वारा संरक्षित किया गया था।

फिर 1823 में उन्होंने 20-दशमलव क्षमता वाली एक अनुमानित मशीन, डिफरेंस इंजन के डिजाइन के लिए सरकारी समर्थन प्राप्त किया।  आधुनिक कंप्यूटरों की तरह, डिफरेंस इंजन में स्टोरेज होता था – यानी एक ऐसी जगह जहां डेटा को बाद में प्रोसेसिंग के लिए अस्थायी रूप से रखा जा सकता था। इसके निर्माण के लिए मैकेनिकल इंजीनियरिंग तकनीकों के विकास की आवश्यकता थी, जिसके लिए बैबेज ने खुद को समर्पित कर दिया।

इस बीच (1828-39) में, उन्होंने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में गणित के लुकासियन प्रोफेसर के रूप में कार्य किया। हालांकि, कमरे के आकार के लिए डिज़ाइन किया गया पूरा इंजन कभी नहीं बनाया गया था, कम से कम बैबेज द्वारा नहीं। 1833 में सभी डिजाइन और निर्माण बंद हो गए, जब मशीन के निर्माण के लिए जिम्मेदार मशीनिस्ट जोसेफ क्लेमेंट ने प्रीपेड होने तक जारी रखने से इनकार कर दिया।


लैपटॉप का आविष्कार किसने किया ?

laptop

क्योंकि personal  कंप्यूटर का Size बड़ा था और इसे एक जगह से दूसरी जगह नहीं ले जाया जा सकता था और ना ही इसे बिना बिजली के इस्तेमाल किया जा सकता था इसलिए इस कमी को पूरा करने के लिए 1981 में Adam Osborne ने पहले Laptop का आविष्कार किया.

Laptop के लिए अलग से किसी Peripheral Devices की जरूरत नहीं थी बल्कि इसमें पहले से ही Touch pad, Keyboard, Mouse, Speaker, Microphone सभी Features internally मौजूद थे. इसलिए इसने Market में Launch होते ही बहुत सफलता हासिल कर ली.

जब इसे Market में पहली बार Launch किया गया, तब Laptop की कीमत $795 थी. लेकिन इसकी इतनी ज्यादा कीमत होने के बाद भी बहुत सारे लोगों ने इसे खरीदा. जो की आज भी ऑफिस के कामो के लिए उपयोग किया जाता है । इसको काही ले के जाना बड़ा ही आसान है । जो की कम्प्युटर की उपेक्षा अच्छा है ।


सुपर कंप्यूटर का आविष्कार कब हुआ ?

super computer

सुपर कम्प्युटर वो कम्प्युटर होते है जो की आम कम्प्युटर से कई गुना fast तेज होते है जिंका उपयोग बहुत सारी calculation करने मे किया जाता है । जो की आम computer से करने मे हमे कई साल लग सकते है । उस कम को super computer बहुत जल्दी कर देते है । सुपर कंप्यूटर का आविष्कार कब हुआ?कहा हुआ या इसे किसने बनाया । इसके बारे मे भी आप लोगो ने कभी तो सोचा होगा ।

तो सुपर कंप्यूटर को 1960 के दशक में बनाया गया था.  अमेरिका के कंट्रोल डेटा कॉरपोरेशन (CDC) company जिसका नाम ( Sperry Corporation) था जिसके कुछ  इलेक्ट्रिकल इंजीनियर ने मिलकर  दुनिया का सबसे तेज कंप्यूटर बनाने की शुरुआत की ।  जिसका नाम CDC 1604 था  जिसे  ही दुनिया का सबसे पहला सुपरकम्प्युटर माना जाता है.


भारत का पहला कंप्यूटर कौन सा था ?

जब 1960 मे अमेरिका ने अपना सुपर कम्प्युटर बना लिया था उसी समय के पास भारत मे कम्प्युटर बनाने का काम किया गया ।1952 में भारत में कंप्यूटर युग की शुरुआत हो चुकी थी । जिसको भारत की भारतीय सांख्यिकी संस्थान (Indian Statistical Institute) कोलकाता से हुई। इस आईएसआई में स्थापित होने वाला पहला एनालॉग कंप्यूटर भारत का प्रथम कंप्यूटर था।

1966 में भारत का पहला कंप्यूटर ISIJU विकसित किया गया।  इस कंप्यूटर को बनाने का काम भारत की  दो संस्थाओं भारतीय सांख्यिकी संस्थान (Indian Statistical Institute) और कोलकाता की जादवपुर यूनिवर्सिटी (Jadavpur University) ने मिल कर तैयार किया था। इसी कारण इसे ISIJU नाम दिया गया।इस कम्प्युटर का विकास भारत के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण था । क्योकि ये भारत का पहला electronic computer था ।


पहला कंप्यूटर भारत में कब और कहां लगाया गया ?

भारत मे कम्प्युटर युग की शुरुवात 1952  में भारतीय सांख्यिकी संस्थान कोलकाता से हुई थी। जब 1952  में आई एस आई में एक एनालोंग कंप्यूटर की स्थापना की गई थी जो भारत का प्रथम कंप्यूटर था। इसके बाद बेंगलूर मे भी एक एनालॉग कम्प्युटर की स्थापन किया गया।लेकिन इन सब के बाद भी भारत में कंप्यूटर युग की वास्तविक रूप से शुरुआत हुई।

सन 1953 में, जब आई एस आई कोलकाता में भारत का प्रथम इलेक्ट्रोनिक डिजिटल कंप्यूटर HEC – 2M स्थापित किया गया।   क्योंकि इस कम्प्युटर की  स्थापना के साथ ही भारत जापान के बाद एशिया का दूसरा ऐसा देश बन गया था जिसने कंप्यूटर तकनीक को अपनाया था। जबकि उस समय मे चीन मे भी कम्प्युटर तकनीक नही थी ।इस HEC – 2M कोम्म्पुटर का निर्माण लंदन मे किया गया था । जिसे व्हा से आयात करके भारत लाया गया था ।


भारतीय सुपर कंप्यूटर का जनक कौन कहलाता है ?

भारत मे super computer का जनक डॉ. विजय भाटकर को बोला जाता है डॉ विजय भटकर ने  1987 में सी-डैक की सुपर-कंप्यूटर परियोजना  का नेतृत्व कर चुके हैं जिसके तहत देश के पहले सुपर कंप्यूटर परम 8000 और परम 10000 बनाए गए थे जो की भारत के पहले सुपर कम्प्युटर है ।


भारत में सुपर कंप्यूटर का क्या नाम है ?

भारत के सुपर कम्प्युटर का नाम परम 800 और परम 1000 है जिनहे डॉ विजय भाटकर के दावरा बनाया  गया है ।  जिसका विश्व मे सुपर कम्प्युटर की लिस्ट मे 63 वा स्थान है ।


conclusion

प्यारे दोस्तों उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे आर्टिकल के माध्यम से समझ आ गया होगा की कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया ? ( who are the inventor of computer) और computer ki khoj kisne ki । अगर आपको कोई भी कठिनाई आए तो आप हम से नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं आप का कमेंट हमारे लिए महत्वपूर्ण है आगे भी इसी तरह से आपको अपने आर्टिकल के माध्यम से और चीजों के बारे में जानकारी प्रदान करता रहूँगा।

image credit – pixabay 

और पड़े 

 

Leave a Reply