CV Full Form in Hindi – सी.वी क्या है | CV तथा Resume में अंतर 

CV Full Form in Hindi, CV Ka Full Form Kya Hai, CV का Full Form क्या होता है, CV Ka Poora Naam Kya Hai, , cv ka full form,meaning of cv in hindi, सी.वी बायोडाटा क्या होता और इसका पूरा नाम क्या होता है,

सी.वी. की फुल फॉर्म इन हिंदी, CV की full form क्या है, और CV का क्या मतलब होता है, CV का use किस लिए किया जाता है? इसका उपयोग क्यो किया जाता है ? curriculum vitae meaning in hindi . 

CV Full Form in Hindi – सी.वी क्या है | CV तथा Resume में अंतर 

इसके बारे मे आप भी सोचते होगे । दोस्तों क्या आपको पता है   ऐसे सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में मिल जायेंगे है और आपको cv के बारे मे पूरी जानकारी भी मिलेगी । की सीवी cv क्या होता है  क्योंकि आज हम इस post में आपको CV की पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने जा रहे है तो फ्रेंड्स CV Full Form in Hindi में और CV की पूरी history जानने के लिए इस post को लास्ट तक पढ़े. आप इस पोस्ट को पद के cv का मतलब और इसको कैसे बनाया जाता है इसका उपयोग कहा किया जाता है ये सब आप जान सकते हो ।

लेख में हम आपको CV फुल फॉर्म के अलावा CV तथा Resume में क्या अंतर होता है यह भी बताएंगे, किसी भी नौकरी को पाने की पहली सीढ़ी रिज्यूमे देना होता है उसके बाद cv या resume के आधार पर सेलेक्शन होता है. इसके सेलेक्ट होने के बाद ही आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है. रिज्यूमे में आप अपनी Educational Qualification और अपने स्किल्स की काफी शॉर्ट में जानकारी देते हैं. सीवी cv  में यह Information detail में दी जाती है. बायोडाटा में आप पर्सनल जानकारी देते हैं. अगर आप अपनी लाइफ में सीवी, रिज्यूमे और Bio data में कंफ्यूज होते हैं तो यहां इनके अंतर को समझें.


CV फुल फॉर्म, CV का फुल फॉर्म क्या है?

CV का फुल फॉर्म – Curriculum Vitae है.

cv full form in hindi – इसको आम भाषा में बायोडाटा कहा जाता है CV मे आप अपनी Life ज़िंदगी  के बारे में लिखते है. लेकिन Bio Data की तरह इसमें हैं हर Information जानकरी  नही लिख सकते है आपको बहुत कम शब्दो मे अपने बारे मे बताना होता है cv सी वी मे । cv full form pronunciation .


curriculum vitae in hindi

cv meaning in hindi – CV व्यक्ति की (Educational) पढ़ाई  और व्यावसायिक योग्यता और अन्य अनुभवों का लिखित अवलोकन है. यह एक उम्मीदवार का पूरा प्रोफाइल है, जिसमें उसका पूरा नाम, पता, फोन नंबर, ईमेल आईडी, (Educational) योग्यता, शौक, उपलब्धियां, सॉफ्ट स्किल, जानी जाने वाली भाषा, (Computer skills), करियर उद्देश्य, वैवाहिक स्थिति Award, College का Name Result, All Degree और जो भी आपने अपनी जिदंगी मे उपलब्‍धियाँ पाई है आदि शामिल है.

सीवी की मदद से नौकरी के लिए आपकी योगयता का अवलोकन किया जाता है. व्यक्ति का अनुभव और अन्य योग्यताएं जो नौकरी के अवसर के लिए आवश्यक हैं.CV Applications कंपनी को Staff चुनने मे मदद करता है. इसकी मदद से कंपनी को ये पता चल जाता है कि किन-किन लोगो को Interview के लिये बुलाया गया है.

वो एक मेरिट लिस्ट (merit list ) बनाते है जिसके आधार पर वो लोगो को Interview के लिये बुलाते है  । आपका  CV 2 पेज का होना चाहिए जिससे Interview लेने वाले पे आपका अच्छा प्रभाव पड़े.


सीवी (curriculum vitae meaning in hindi) :

Curriculum Vitae(CV ) एक लैटिन शब्द है जिसका अर्थ है कोर्स ऑफ लाइफ. यह रिज्यूमे से ज्यादा डिटेल में होता है सीवी में आपकी अब तक कि सारी स्किल्स की लिस्ट, सभी जॉब्स और पॉजिशंस, डिग्री, प्रोफेशनल डिग्री का जिक्र होता है इसमें आप अपने पास्ट की उन चुनौतियों के बारे में लिख सकते हैं जिनका आपने सफलतापूर्वक सामना किया है. आपको बता दें कि रिक्रूटर हमेशा उन कैंडिडेट्स को  पसंद करते हैं, जो लीक से हट कर सोचते हैं. सीवी अकसर उन कैंडिडेट्स के लिए सही रहता है जो फ्रेशर हैं या फिर वो करियर बदलना चाहते हों.


बॉयोडाटा (Bio-data) :

बॉयोडाटा की फुल फॉर्म होती है बॉयोग्राफिकल डाटा. बॉयोडाटा में पर्सनल इंफोर्मेशन लिखी जाती है. जैसे मैरिटल स्टेटस, डेट ऑफ बर्थ, धर्म, जेंडर का जिक्र किया जाता है. भारत में बॉयोडाटा का इस्तेमाल अकसर शादी से पहले पर्सनल इंफोर्मेशन देने के मकसद से भी किया जाता है.  जॉब के लिए इसका इस्तेमाल तब होता है जब कैंडिडेट्स सरकारी नौकरी के लिए आवेदन कर रहे होते हैं. अंतर राष्ट्रीय स्तर पर जहां कैंडिडेट्स की पर्सनल इंफोर्मेशन जैसे धर्म, उम्र, जेंडर को बताना जरूरी नहीं होता, वहां बॉयोडाटा का इस्तेमाल नहीं किया जाता.


रिज्यूमे  (Resume) :

resume meaning in hindiकिसी भी नौकरी के लिए भेजे गए रिज्यूमे को सरसरी निगाह से देखा जाता है. इसलिए इसमें जो भी लिखा जाता है शॉर्ट में लिखा जाता है और उस इंफोर्मेशन का जिक्र किया जाता है जो बेहद जरूरी हो. एक तरह से रिज्यूमे में  आपको नौकरी के लिए इंटरव्यू तक ले जाने का रास्ता है वहीं सीवी (CV ) को आपके इंटरव्यू के दौरान देखा जाता है. इसलिए रिज्यूमे की शुरू में ही अपने स्किल्स के साथ-साथ अपने क्षेत्र से जुड़ी स्पेशलाइजेशन का भी जिक्र करें. इससे रिक्रूटर को पता चलेगा कि आपका इंडस्ट्री में कितना अनुभव है.

CV का मतलब क्या होता है ? (cv kya hota hai)

आपने अपनी पूरी पढ़ाई कर ली है और आप अब अपने लिए नौकरी (job) की तलाश की तलाश कर  रहे हो । पर क्या आपको ये पता है की किसी (job) नौकरी के लिए आवेदन करने मे आपको अपनी सारी जानकारी जो आपके पढ़ाई से जुड़ी हो, आपने कही काम किया हो उसकी जानकारी और भी बहुत सारी जानकारी देनी होती है वो भी बहुत कम शब्दो मे ।इन सब जानकारी को एक फॉर्मेट मे देना होता है एक क्रम अनुसार दिया जाता है जिसे cv सी वी या resume बोला जाता है ।


CV Full Form in Hindi – सी.वी क्या है | CV तथा Resume में अंतर 


CV का फॉर्मेट  कैसे बनाते है

जैसा कि हमने कहा कि CV में हमें अपनी Personal Life Document (संछिप्त निजी जीवनी) बनानी पड़ती है सभी जानकारियों का List बनाकर वर्गीकृत करना पड़ता है और इसकी Standard Quality का भी ध्यान रखा जाता है. तो आईये जानते है कि CV का स्वरूप कैसे बनाते है ? CV का स्वरूप बनाने के लिए हम निम्नलिखित चीजों पर अपना ध्यान केंद्रित करेंगे.


 CV का उद्देश्य 

cv full form for job – आपको यह पता होना चाहिए कि आप किस job को पाने के उद्देश्य से CV बना रहे है. किस नौकरी प्रोफ़ाइल के लिए CV बना रहे है. आप जिस job profile के लिए CV बना रहे है आपको उसी के अनुसार CV बनाने का प्रयत्न चाहिए . जैसे, आप कंप्यूटर Operator जैसे Job Profile के लिए CV बना रहे है. तो आपको नियोक्ता को बताना पड़ेगा की आप कंप्यूटर Operator के लिए सबसे सर्वश्रेष्ठ उम्मीदवार है.

इसके लिए आप CV में दे सकते है कि आपकी Typing अच्छी है आपको कंप्यूटर ऑपरेट करने में कोई परेशानी नहीं होती है आप कंप्यूटर के छोटी, मोटी खराबियों को ठीक करने का Skills भी रखते है इत्यादि-इत्यादि, इस तरह आप CV का उद्देश्य को ध्यान में रखकर नियोक्ता को प्रभावित कर सकते हैं.


Career Objective : – 

career Objective में आपको सबसे पहले अपने Career के बारे में Details से लिखना होता है. इसमें आपको अपने करियर के बारे में सब कुछ लिखना होग . ताकि आपको नौकरी मिलने मौका change जायदा हो । जितना हो सके उतना अपने career की जानकारी दे । एक और बात जो बहुत ही Important इसमें आप आपने आने वाले करियर में क्या करना चाहते है, ये सब भी Job के हिसाब से सोच कर इसमें आपको लिखना चाहिए.


 शैक्षिक योग्यता (Qualification) : –

Qualification दोस्तों जैसा की आप जानते है, इस हैडिंग में आपको अपने Qualification के बारे साफ साफ में लिखना होता है इस हैडिंग में आपको वो सब लिखना होता है जो आपने अब तक education लाइफ में प्राप्त किया है.

 शैक्षिक योग्यता में आपको अपनी शैक्षिक योग्यता का विवरण देना होता है जैसेः आपने 10वीं की Exam कब Pass किया, उसमे आपने कितना Marks Achieve किया था, Marks का प्रतिशत क्या था या कितना Grade था, आपने Exam किस विभाजन में Pass किया प्रथम श्रेणी, द्वितीय श्रेणी या Third Class इत्यादि इत्यादि. आपने अब तक जितने भी Exam पास किया है सभी का विवरण इसी तरह से देना होता है.


 अनुभव (Experience) : –

इस हैडिंग में आपको अपने work experience के बारे में लिखना चाहिए और यदि आपके पास किसी भी तरह का कोई work experience नही है, या अपने कही काम किया हो उसकी जानकारी दे सकते हो । और आप एक fresher है तो आपको इस हैडिंग को लिखना जरूरत नही है.

अनुभव में आपको अपनी पिछली job का विवरण देना होता है, कि आपका पिछली Job का Job Profile क्या था, आपने Job को कितना समय तक किया, आपने वो Job क्यों छोड़ा और आपने उस Job से क्या सिखा| उस Job को करने से आपको क्या अनुभव प्राप्त हुआ और इस नई Job के लिए उस Job से प्राप्त अनुभवों का प्रयोग आप कैसे कर सकते है.


अन्य कौशल (other Skills) : –

अन्य कौशल यानि की कोई ऐसा Skills जो नौकरी प्रोफ़ाइल के नजरिये से उपयुक्त हो और job दिलाने के लिए एक जबरदस्त कारण के रूप में हो, जैसेः उपर मैंने उदहारण दिया है कंप्यूटर Operator के बारे में, इस Job में आपको सिर्फ कंप्यूटर को Operate करने आना चाहिए| बस आप कंप्यूटर Operator की Job करने के लिए उपयुक्त है. लेकिन यदि आपको कंप्यूटर की छोटी-मोटी खराबियों को ठीक करने का तरीका यानि आप कंप्यूटर Hardware का भी Knowledge रखते हो, तो ये Skills कंप्यूटर Operator की Job के लिए आपकी अन्य कौशल, कहलाएगी, ऐसी Skills Job दिलाने के लिए बहुत ही लाभदायाक होती है. 


 CV (सीवी ) और Resume (रिज्यूमे) में क्या अंतर है?

ResumeCV
1 ) कौशल पर जोर देता हैशैक्षिक उपलब्धियों पर जोर देता है
2) उद्योग, गैर-लाभकारी और सार्वजनिक क्षेत्र में स्थिति के लिए आवेदन करते समय उपयोग किया जाता हैशिक्षाविदों, फैलोशिप और अनुदान में पदों के लिए आवेदन करते समय उपयोग किया जाता है
3) यदि नौकरी के लिए अत्यधिक प्रासंगिक है, तो प्रकाशनों और या पोस्टर प्रस्तुतियों के लिए एक अतिरिक्त पृष्ठ के साथ 2 पृष्ठों से अधिक नहीं हैलंबाई अनुभव पर निर्भर करती है और इसमें प्रकाशनों, पोस्टरों और प्रस्तुतियों की पूरी सूची शामिल होती है
4) 1 साल के उद्योग के अनुभव के बाद, योग्यता के आधार पर कार्य अनुभव और अंत में या उसके पास शिक्षा अनुभाग रखेंहमेशा शिक्षा के साथ शुरू होता है और इसमें सलाहकार और शोध प्रबंध शीर्षक या सारांश (उदाहरण देखें) का नाम शामिल हो सकता है. योग्यता / कार्यकाल की समीक्षा और विश्रामपूर्ण अवकाश के लिए भी उपयोग किया जाता है

और पढे 

Leave a Reply