Gmail Full Form in Hindi | cc and bcc meaning | हिन्दी मे ।

आपने gmail के बारे मे सुना ही होगा और बहुत सारे लोग इसका आज पूरी दुनिया मे उपयोग करते है पर gmail को देख के आपके मन मे इससे जुड़े कुछ सवाल आते होगे जैसे – gmail full form , full form of gmail and email , Gmail Full Form in Hindi, Gmail Ka Full Form Kya Hai, what is email जीमेल क्या है?  इसको किसने बनाया है इसका use क्या है आज हम आपके येसे सभी सवालो के जवाब देने वाले है । तो आप हमारी पोस्ट को और जरूर पड़े ताकि आप इस के बारे मे सब कुछ जान सको ।

 gmail full form


Gmail full form in hindi

Gmail full Form Google mail
Email full form electronic mail
cc email meaningCc stands for carbon copy
bcc meaningBcc stands for blind carbon copy 
Gmail full form in hindiजीमेल
Who Create Gmail Paul Buchheit
gmail launch date1 April 2004
Available in105 languages
Users 1.5 billion (October 2019)

जीमेल का फुल फॉर्म Google mail होता है जिसका अविष्कार गूगल के द्वारा बनाया गया था जीमेल एक web-mail service है जोकि गूगल कंपनी द्वारा free of cost उपलब्ध कराई जाती है आप gmail official website में जाकर अपना account create करके इस सुविधा का लाभ उठा सकते है | बर्ष 2019 तक दुनिया भर में जीमेल 1.5 बिलियन सक्रिय उपयोगकर्ता थे। जीमेल अपनी ईमेल सेवा के लिए IMAP और POP प्रोटोकॉल का इस्तेमाल करता है। जीमेल एक एप है, जिसके माध्यम से आप मेल रिसीव और सेंड कर सकते हैं।


Gmail logo 

google mail logo

जीमेल की सुविधा कब शुरू हुई

Gmail service की सुविधा गूगल के द्वारा 1 अप्रैल 2004 को शुरू की गई थी लेकिन जब यह सुविधा शुरू की गई थी तब लोग इस पर केवल आमंत्रण के द्वारा ही इस सुविधा का लाभ उठा सकते थे। परंतु 7 फरवरी 2007 से एसे सभी लोगों के लिए उपलब्ध करा दिया गया और आज के समय में करोड़ों लोग इस सुविधा का उपयोग कर रहे हैं।

वर्तमान समय मे Gmail 15 गीगाबाइट स्टोरेज स्पेस प्रदान करता है। उपयोगकर्ता 50 मेगाबाइट तक के ईमेल प्राप्त कर सकते हैं, जबकि वे 25 मेगाबाइट तक के ईमेल भेज भी सकते हैं। अगर यूजर को बड़े साइज की फ़ाइल जीमेल के माध्यम से सेंड करना चाहते हैं तो बड़ी फ़ाइलें भेजने के लिए, उपयोगकर्ता Google Drive से फ़ाइल मेल में जोड़ सकते हैं।


Gmail ka use

क्या है इसके बारे में जानकारी प्राप्त करने से पहले वर्तमान में जीमेल का क्या महत्व है इसके बारे हमें जानना जरुरी है क्योंकि आज से कुछ सालों पहले तक लोगों को अगर data transfer करना होता था तो वह लोग Post office courier की services के जरिए डाटा ट्रांसफर करते थे परंतु आज के समय gmail ने यह काम बहुत ही आसान कर दिया है।

और वर्तमान gmail account बनाना professional लोगों के लिए इस कदर जरूरी हो गया है कि अगर आपके पास जीमेल नहीं है तो आप बड़ी-बड़ी कंपनियों में job हासिल नहीं कर सकते हैं जीमेल ने लोगों को बहुत फायदा भी पहुंचाया है

जहां पर अगर आप अपना contact number किसी के साथ share करना नहीं चाहते हैं तो वहाँ अपनी gmail id बताकर, लोगों से communicate कर सकते हैं जीमेल के जरिए आप message का आदान-प्रदान करने के साथ pdf के रूप में document का भी आदान-प्रदान कर सकते हैं और एक बहुत ही secure network है जो कि google के द्वारा बनाया गया है


जीमेल के फायदे (Benefits of Gmail in Hindi)

आज के समय मे लगभग सभी तरह के संस्थानो में कम्युनिकेशन के लिए जीमेल का इस्तेमाल किया जाता है। विभिन्न तरह के मेल कंपनी अपने अधिकारियों और कर्मचारियों को को भेजने के लिए Gmail का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा एजुकेशनल संस्थान, स्टूडेंट्स और भी सभी तरह के संस्थान जीमेल का इस्तेमाल करते हैं। चलिये अब जीमेल के फायदे जान लेते हैं।

  • ईमेल एक फ्री गूगल की सर्विस है। जब एक बार आप ऑनलाइन हो जाते हैं, तो संदेश भेजने और प्राप्त करने के लिए आपको कोई भी और किसी तरह का खर्च नहीं करना पड़ता है।
  • जीमेल का इंटरफेस काफी सरल है। यह प्रयोग करने में बहुत ही आसान है। इससे आप बहुत ही आसानी संदेश लिख सकते हैं, भेज सकते हैं और रिसीव कर सकते हैं।
  • जीमेल काफी फ़ास्ट काम करता है। एक बार संदेश लिखने के बाद में आप सेंड के बटन पर किल्क करके त्वरित रूप से संदेश भेज सकते हैं।
  • जीमेल संदेशों को बड़े पैमाने पर भेजने की अनुमति देता है। अपने संदेश को वहाँ पहुँचाने के लिए उपयोग करने का एक प्रभावी माध्यम है, आप एक ही समय में कई प्राप्तकर्ताओं को एक संदेश भेज सकते हैं।
  • ईमेल आसान लाइब्रेरी की सुविधा भी प्रदान करता है। जिससे भेजे गए और प्राप्त किए गए संदेशों को सुरक्षित और आसानी से संग्रहीत किया जा सकता है। जिनको जरूरत पड़ने पर खोजा जा सकता है। कागज पर लिखे पुराने नोटों की तुलना में पुराने ईमेल संदेशों को पढ़ना और खोजना बहुत ही आसान है।
  • जीमेल में संदेशों को भविष्य के लिए सेव करके रख सकते हैं।
  • जीमेल सबसे ज्यादा पॉपुलर और विश्वासनीय ईमेल का साधन है।

उम्मीद है कि Gmail Full Form in Hindi ये अर्टिकल पसन्द आया होगा। क्योंकि इसमें मैंने Gmail kya hai और इसके यूज क्या हैं? जीमेल को किसने बनाया है। Gmail Meaning in hindi इन सभी के बारे में डिटेल में बताया है। जोकीं आपके लिए काफी यूजफुल साबित होगी।


मेल और जीमेल में क्या अंतर होता है?

दोस्तों वेसे तो ईमेल और जीमेल दोनों का काम मेल भेजना ही होता है लेकिन यहाँ पर इनमे जो मामूली सा अंतर है वो है E-mail एक इलेक्ट्रोनिक मेल होता है और ईमेल हर वेबसाइट का अलग – अलग होता है जैसे कि Yahoo Mail, Re-diff Mail आदि और ये सभी कंपनी की id होती है.

ठीक उसी तरह Gmail एक गूगल का ही प्रोडक्ट है और यह बिलकुल फ्री है और यह Email भेजने की service होता है जो की Google के द्वारा provide की जाती है.दोस्तों हम उम्मीद करते है की आपको हमारे द्वारा समझया गया ये article Gmail Full Form in Hindi अच्छे से समझ आ गया होगा.

और हम अब उम्मीद करते है की ईमेल और जीमेल में क्या अंतर होता है इस सवाल का जवाब भी आपको मिल गया होगा.अगर आपको हमारा ये article पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ share करना न भूले जिससे की उन्हें भी Gmail Ka Poora Naam Kya Hai ये पता चल सके.


TO और CC में क्‍या फर्क है ?

cc meaning

अब एक सवाल मन में उठता है कि आखिर To और Cc field में फर्क क्या है. लेकिन अगर आप चार लोगों का नाम टू में जाकर मेल करते हैं तो उनमें से एक दूसरे को ये पता नहीं चल पाएगा कि आखिर किन किन लोगों को मेल भेजा गया है.

जबकि Cc का मतलब होता है Carbon Copy. अगर आप किसी वयक्ति को मेल भेज रहे हैं और चाहते हैं कि बाकी लोगों को इसके बारे में जानकारी रहे तो आप उन सभी लोगों को सीसी में रख सकते हैं. ऐसा अक्सर तब किया जाता है जब हमें किसी सीनियर को इसके बारे में जानकारी देनी होती है. इससे सीनियर को ये भी पता चल जाता है कि मेल का जवाब क्या दिया गया. जिसको सीसी में रखा जाता है उसके बारे में मूल व्यक्ति को भी पता चल जाता है

मै एक उदाहरण देता हूँ : मानलो कि आपकी company मे एक ग्राहक की कोई समस्‍या आयी, अब आपका  boss उस समस्‍या काे सही करने की जिम्‍मेदारी आपको देता है, लेकिन वो देखना भी चाहता है कि आप ग्राहक से Email के द्वारा क्‍या बात करते है। तो अाप अपने ग्राहक का Email address TO में डालकर अपने boss का address CC में रख सकते है। इससे वो Email जो आप ग्राहक को भेज रहे हो उसकी carbon copy आपके Boss को भी जायेगी।

Bcc क्या है?

Bcc का फुल फॉर्म है Blind Carbon Copy. Bcc, To और Cc से बिल्कुल अलग है. To और Cc वाले इंसान एक दूसरे की ईमेल आई़डी देख सकते हैं. अगर आप Email भेजने के लिए Bcc का इस्तेमाल करते हैं तो Bcc दोनों (To and Cc) से गुप्त रहेगा.

अगर हम एक ही E-mail 3 लोगों को भेजें, एक को To में Add करें और दूसरे इंसान को Cc में Add करें और तीसरे इंसान को Bcc में Add करें तो To and Cc एक दूसरे की ईमेल ID देख सकते हैं. कि मेरे अलावा किस-किस Person को यह Email भेजी गई है. लेकिन Bcc वाला इंसान न तो To वाले को दिखाई देगा और न ही Cc वाले को दिखाई देगा, यानी कि दोनों से गुप्त रहेगा.

Cc और Bcc में फर्क ?

जब आप Cc करते है तो Cc की लिस्ट भी ईमेल रिसीव करने वाले लोगों को पता चल जाता है. लेकिन Bcc करने से ईमेल लिस्ट गुप्‍त रहती है और किसी को भी नहीं पता चलता कि किस-किस को ईमेल की कॉपी भेजी गई है. एक और फर्क है, Cc में लिस्ट को रिप्लाई का भी पता चलता रहता है लेकिन Bcc लिस्ट में reply छिप जाता है.


Conclusion

प्यारे दोस्तों उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे आर्टिकल के माध्यम से समझ आ गया होगा कि what is email, gmail क्या है cc और bcc क्या है और इनका उपयोग कैसे किया जाए ।  अथवा इसे करने की क्या प्रक्रिया है। अगर आपको कोई भी कठिनाई आए तो आप हम से नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं आप का कमेंट हमारे लिए महत्वपूर्ण है आगे भी इसी तरह से आपको अपने आर्टिकल के माध्यम से और चीजों के बारे में जानकारी प्रदान करता रहूँगा। इसके बारे मे आप और पढ़ सकते हो Wikipedia 

और पड़े

Leave a Reply