keyboard in hindi | कीबोर्ड क्या है ? इसके प्रकार और उपयोग

keyboard in hindi –  आप और हम लोग computer के बारे मे जानते है क्या आप भी Computer सीख रहे हैं। या फिर सीखना चाहते हैं। तब आपको Computer Keyboard की जानकारी होना चाहिए। आपको Computer Keyboard की जानकारी नहीं है। तो आपको कम्प्युटर चलाने मे समस्या आ सकती है । इस लिए आप हमारी इस पोस्ट को पढ़िये और keyboard के बारे मे हिन्दी मे जाने सब कुछ ।

keyboard in hindi

Computer Keyboard की जानकारी प्रत्येक Computer User को होना चाहिए। इसमें उपस्थित सभी कुंजी की भी पूरी जानकारी होना चाहिए। क्योंकि Keyboard Computer का एक प्रमुख अंग होता है। जिससे Computer को निर्देश दिया जाता है और Computer को Control किया जाता है।

Contents show

Keyboard in hindi | कम्प्युटर कीबोर्ड इन हिन्दी 

keyboard in hindi – keyboard को हिन्दी मे कुंचीपटल बोला जाता है ।

जैसा की इसके नाम से पता चलता है की ये एक बोर्ड है जिसमे बहुत सारी बटन होती है । जिसकी मदद से कम्प्युटर मे काम करते है ।

Keyboard Computer का एक प्रमुख इनपुट डिवाइस होता है। mouse और दूसरे input device की तरह ही होता है। हम  इसका उपयोग Computer को निर्देश (Instructions) देने के लिए किया जाता है। आमतौर पर Keyboard पर उपस्थित अक्षर, नंबर और चिन्ह इत्यादि के कुंजी (Key) द्वारा कम्प्युटर को निर्देश दिया जाता है।

Keyboard पर बहुत सारी कुंजीयाँ (Keys) या बटन होती है। जिनकी मदद से Computer को निर्देश दिया जाता है। जिसमें से कुछ कुंजी (Key) अक्षर के लिए तथा कुछ नंबर और चिन्ह के लिए होता है। वहीं Keyboard पर कुछ विशेष प्रकार की कुंजी (Key) भी होती है। कुल मिलाकर Keyboard में लगभग 104 या 108 कुंजी (Key) होती।

Keyboard का Full Form (Keyboard Full Form in Hindi)

क्या आप जानते हैं कि Keyboard का पूरा नाम क्या होता है। जी हाँ! Keyboard का भी Full Form होता है। क्या आपको इससे पहले पता था क्या?

Keyboard के पूरा नाम Keys Electronics Yet Board Operating A to Z Response Directly होता है।

  • K – Keys
  • E – Electronics
  • Y – Yet
  • B – Board
  • O – Operating
  • A – A to Z
  • R – Response
  • D – Directly

Keyboard definition in Hindi | computer keyboard in hindi

multimedia keyboard

what is keyboard in hindi

Computer का वह उपकरण जिसकी सहायता से Computer में Text, Numbers और Symbols आदि को Input किया जाता है। सामान्यतः वह उपकरण Keyboard कहलाता है।

keyboard in hindi – कीबोर्ड एक पोर्टेबल वायर्ड या वायरलेस इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जिसमें सभी अक्षर, अंक, प्रतीक और विशेष वर्ण होते हैं, जिसका उपयोग लैपटॉप/डेस्कटॉप कंप्यूटर सिस्टम में इनपुट डेटा दर्ज करने के लिए किया जाता है।

आमतौर पर कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं द्वारा विभिन्न प्रयोजनों के लिए उपयोग किए जाने वाले विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर कीबोर्ड एक क्वर्टी कीबोर्ड, एक गेमिंग कीबोर्ड, एक वर्चुअल कीबोर्ड और एक मल्टीमीडिया कीबोर्ड हैं।

कंप्यूटर से कनेक्ट करने के लिए कीबोर्ड के लिए उपयोग किए जाने वाले कनेक्टिविटी विकल्पों के आधार पर, इसे वायर्ड कीबोर्ड, वायरलेस कीबोर्ड, ब्लूटूथ कीबोर्ड और यूएसबी कीबोर्ड के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।


कीबोर्ड का क्या कार्य है | Functions of Keyboard in Hindi

कीबोर्ड का क्या कार्य है

computer keyboard in hindi – Keyboard के द्वारा किये जाने वाले कार्य निम्नलिखित हैं-

♦ उपयोगकर्ता कीबोर्ड का उपयोग करके अक्षरों और संख्याओं को टाइप कर सकते हैं। साथ ही की-बोर्ड के प्रयोग से कुछ विशेष कमांड भी किए जा सकते हैं। केवल की-बोर्ड से ही हम डाटा इनपुट कर सकते हैं।

♦ माउस की सहायता के बिना कीबोर्ड द्वारा अधिकांश कार्य किए जा सकते हैं। माउस द्वारा किए जाने वाले विशेष कार्यों के लिए फंक्शन कुंजियों और नियंत्रण कुंजियों का उपयोग किया जाता है।

♦ सिस्टम से किसी भी फाइल को एक्सेस करने के लिए शॉर्टकट कुंजियों का उपयोग किया जाता है ताकि माउस के उपयोग से बचा जा सके।

♦ नियंत्रण कुंजी और एस्केप कुंजी का उपयोग अधिकांश कार्यों में विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। 

keyboard की मदद से कम्प्युटर को निर्देश देने मे आसानी होती है ।

इसकी मदद से बड़ी ही आसानी से अल्फा-न्यूमेरिकल डेटा कंप्यूटर में इनपुट किया जाता है।

इसमें उपस्थित बटनों के कॉन्बिनेशन (shortcut keys) का प्रयोग करके, अनेको ऑपरेशन्स परफॉर्म करवाए जा सकते हैं, जिससे समय की काफी बचत होती है।

इसके अलावा गेम खेलना, म्यूजिक कंट्रोल करना आदि कार्य किए जा सकते हैं।

Note- अल्फा-न्यूमेरिकल डेटा = अल्फाबेट + नम्बर + स्पेशल-सिम्बल

टच स्क्रीन कीबोर्ड आजकल ज्यादातर उपयोग में हैं और भविष्य में इन्हें ऑगमेंटेड रियलिटी कीबोर्ड से बदला जा सकता है। नए कीबोर्ड लचीले होते हैं और पारंपरिक की तुलना में अधिक अनुकूलित होते हैं। हो सकता है कि भविष्य में की-बोर्ड के अलावा अन्य माध्यमों से भी डाटा इनपुट किया जा सके। पीढ़ी के लिए सभी परिवर्तनों का स्वागत करने की मानसिकता की आवश्यकता है।


कीबोर्ड के प्रकार | Types of Keyboard in Hindi

1. Multimedia Keyboard

multimedia keyboard

 

जिस कीबोर्ड में सभी मल्टीमीडिया बटन होते हैं उसे मल्टीमीडिया कीबोर्ड कहते हैं। बटन में मीडिया लॉन्च करने के लिए प्ले, पॉज़, पिछला, अगला, वॉल्यूम अप, वॉल्यूम डाउन, म्यूट और विशेष बटन शामिल हैं। साथ ही, ब्राउज़र, मेरा कंप्यूटर, कैलकुलेटर लॉन्च करने के लिए एक बटन उपलब्ध है।

2. Mechanical Keyboard

एक Mechanical Keyboard भी दिखने में एक आम keyboard के तरह होता है लेकिन इसके काम करने के तरीके में ये दूसरों से अलग होता है. आप एक mechanical keyboard को कह सकते हैं की यह एक ऐसा keyboard होता है जिसमें की board में switches होती हैं जो की खुद actuate हो जाती हैं उनके point of bottoming out होने से पहले . जब प्रत्येक कुंजी को दबाया जाता है तो यह शोर करता है।

3. Wireless Keyboard

Wireless Keyboard

 

जैसा की नाम से पता चलता है wireless मतलब जो बिना wire के काम करे । इसको कम्प्युटर से जोड़ने के लिए किसी प्रकार की wire की जरूरत नही होती है । इसकाओ कम्प्युटर से जोड़ने  ब्लूटूथ, आईआर तकनीक या रेडियो फ्रीक्वेंसी का उपयोग किया जाता है।

हम कीबोर्ड को पोर्ट कर सकते हैं और कीबोर्ड के पास पेरेंट सिस्टम की जरूरत नहीं है। ये कीबोर्ड हल्के और आकार में छोटे होते हैं। इन कीबोर्ड में एक ट्रांसमीटर और ट्रांस-रिसीवर होना चाहिए। ट्रांसमीटर कीबोर्ड से रेडियो तरंगों के रूप में स्ट्रोक भेजता है जो पैरेंट डिवाइस के पास रखे ट्रांस-रिसीवर द्वारा प्राप्त किए जाते हैं।

4. Virtual Keyboard

Virtual Keyboard , keyboard in hindi

स्मार्टफोन में इस्तेमाल होने वाले की-बोर्ड को वर्चुअल की-बोर्ड कहा जाता है। यह कीबोर्ड जरूरत पड़ने पर दिखाई देता है और टाइपिंग पूरी होने पर गायब हो जाता है। इसे जरूरत के हिसाब से अपने आप सेट किया जा सकता है। साथ ही विंडोज़ सिस्टम में हम वर्चुअल कीबोर्ड का उपयोग कर सकते हैं जो स्क्रीन पर दिखाई देता है। वर्चुअल कीबोर्ड के लिए ले जाने के लिए कोई भौतिक वस्तु नहीं है।

5. USB Keyboard

यूनिवर्सल सीरियल बस कीबोर्ड में एक तार के साथ एक यूएसबी स्टिक होती है जिसे सिस्टम के यूएसबी पोर्ट में लगाना होता है। और फिर कीबोर्ड अच्छा काम करता है। सिस्टम को रिबूट करते समय, कीबोर्ड समर्थित नहीं है और इसलिए उपयोगकर्ताओं को समस्या का सामना करना पड़ सकता है। उपयुक्त ड्राइवरों की स्थापना इस समस्या को हल करने में मदद करती है।

6. Ergonomic Keyboard

keyboard in hindi

यह कीबोर्ड मुख्य रूप से उन यूजर्स के लिए बनाया गया है जो टाइपिंग के लिए दोनों हाथों का इस्तेमाल करते हैं। इस कीबोर्ड का फायदा यूजर्स के लिए कम मसल स्ट्रेन और कार्पल टनल सिंड्रोम है। कीबोर्ड एर्गोनॉमिक्स की दृष्टि से बनाया गया है। यह कीबोर्ड महंगा है और आम लोगों के लिए वहन करने योग्य नहीं है।

7. QWERTY Keyboard

शुरुवाती दिनो मे टाइपराइटरों में QWERTY रेंज की कुंजियाँ उपयोगा किए जाती  थीं। टाइपराइटर उपयोगकर्ताओं के उपयोग में आसानी के लिए शुरुआती कंप्यूटर कीबोर्ड भी इसी तरह से बनाए गए थे। यह कीबोर्ड हम सभी द्वारा उपयोग किया जाने वाला सबसे आम कीबोर्ड है और इसलिए इसे किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है।

 8. Gaming Keyboard

जिस कीबोर्ड मे बटन बहुत कम होती या सिर्फ उतनी ही बटन होती है जितनी किसी गेमिंग वालों को जरूरत होती है , उसे गेमिंग कीबोर्ड कहा जाता है। कीबोर्ड में ग्राफिक्स भी शामिल हैं। W, S, D, A और तीर कुंजियाँ ही ऐसी कुंजियाँ हैं जो आप इस कीबोर्ड में पा सकते हैं। डिजाइन इतना अच्छा है कि किसी को भी कीबोर्ड से प्यार हो सकता है।

9. Chiclet Keyboar

इस कीबोर्ड में गोल किनारों वाली चाबियां चौकोर आकार की होती हैं। प्रौद्योगिकी उपकरणों के लिए भिन्न होती है जो इसे विशेष बनाती है। कीबोर्ड में स्विच की झिल्लियों से बटन जुड़े होते हैं और अब लगभग सभी उपकरणों में इसका उपयोग किया जाता है।

10. Membrane Keyboard

ये कीबोर्ड प्रेशर पैड का उपयोग करते हैं और इसमें झिल्ली नामक लचीली सतह पर अक्षर छपे होते हैं। इन कीबोर्ड्स की कीमत बहुत कम होती है। लेकिन टाइपिंग और गेमिंग में अशुद्धि ने उन्हें महत्व खो दिया।

11. Thumb Keyboard

कम कुंजियों या केवल संख्यात्मक वर्णों वाले छोटे कीबोर्ड को थंब कीबोर्ड कहा जाता है। ये ज्यादातर अंकगणितीय संचालन और गेमिंग के लिए भी उपयोग किए जाते हैं। इस कीबोर्ड का साइज सिर्फ अंगूठे के साइज का है।

12. Flexible Keyboard

सिलिकॉन से बने कीबोर्ड जिनमें अधिकांश कुंजियाँ होती हैं और दिखने में लचीले होते हैं, लचीले कीबोर्ड कहलाते हैं। कुंजियों के बीच की दूरी कम होती है। कीबोर्ड रोलिंग के लिए होते हैं और फोल्डेबल नहीं होते हैं।

13. Laptop Sized Keyboard

इस प्रकार के कीबोर्ड में कीज़ कम होती हैं और कीज़ के बीच की जगह कम होती है। इन्हें खासतौर पर लैपटॉप के लिए डिजाइन किया गया है। अधिकांश कीबोर्ड में न्यूमेरिक कीपैड नहीं होते हैं और कुछ फ़ंक्शन कीबोर्ड पर अन्य कुंजियों के साथ शामिल होते हैं।

14. Backlit Keyboard

कुंजियों में रोशनी होती है जो उपयोगकर्ताओं को अंधेरे में भी टाइप करने में मदद करती है। ये कीबोर्ड गेमिंग और पारंपरिक कीबोर्ड में उपलब्ध हैं।

15. Magic Keyboards

ये कीबोर्ड मैक द्वारा निर्मित हैं और बैटरी द्वारा समर्थित हैं। डिजाइन अच्छा है और हर किसी को कीबोर्ड का अहसास कराता है।

16. Bluetooth Keyboard

कीबोर्ड ब्लूटूथ का उपयोग करके सिस्टम से जुड़ा हुआ है और इसलिए यूएसबी पोर्ट का उपयोग अन्य उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। यह कीबोर्ड वायर्ड कीबोर्ड को लचीलापन प्रदान करता है।

17. Chorded Keyboard

कुंजियों की सीमित संख्या उपयोगकर्ता को कीबोर्ड को कहीं भी पोर्ट करने में मदद करती है। कुछ चाबियों का संयोजन वांछित विशेषताओं का उत्पादन करने में मदद करता है। कीबोर्ड आकार में छोटा है और अन्य कीबोर्ड की तरह व्यावसायिक रूप से सफल नहीं है


Computer Keyboard की बनावट (Keyboard Structure in Hindi)

हमे कीबोर्ड के प्रकार को तो जान लिया है , पर बनावट के आधार पर भी ये तीन प्रकार के होते है ।

  1. QWERTY Keyboard
  2. non- QWERTY Keyboard

1. QWERTY Keyboard

ये कीबोर्ड दुनिया मे सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले कीबोर्ड है । QWERTY Keyboard Computer या लैपटॉप में सबसे अधिक उपयोग होने वाला Keyboard Layout है। यहाँ तक कि स्मार्टफोन और टेबलेट में भी QWERTY Keyboard का ही डिफॉल्ट रुप से इस्तेमाल होता है। यह सबसे पॉपुलर Keyboard Layout है।

इस Layout का नाम QWERTY इसलिए है। क्योंकि इस Keyboard के पहले 6 Alphabet Q, W, E, R, T और Y होते हैं। जिसे आप Alphabet वाले Keys के पहले Line में देख सकते हैं।

QWERTY Layout पर आधारित अन्य Keyboard Layout

  1. AZERTY
  2. QWERTZ
  3. QZERTY

2. Non-QWERTY Keyboard

Non-QWERTY Keyboard QWERTY Keyboard Layout पर आधारित नहीं होता है। यदि आपका काम Computer पर अधिक होता है। और Alphabet से जल्दी जल्दी काम करना होता है। तब आपके लिए Non-QWERTY Keyboard अच्छा होगा। क्योंकि इसे Fast Typing के लिए बनाया ही गया है। इससे हाथ और अँगुली में खिंचाव कम होता है। जिससे अधिक टाइपिंग करने के बाद भी हाथ या अंगुली दर्द नहीं करते हैं।

Non-QWERTY Keyboard पर आधारित अन्य Keyboard Layout

    1. DVORAK
    2. WORKMAN
    3. COLEMAK

कीबोर्ड में बटनों की संख्या | Number of keys in Keyboard

शुरुवाती दिनो मे  की-बोर्ड में 84 या इसके बटन आसपास होती थी  पर आज कल जरूरत के अनुसार इन keyboard मे button की संख्या  100 से 115 तक होती है ।  की-बोर्ड के उपयोगिता के आधार पर, इसमें बटनों की संख्या कम या ज्यादा हो सकती हैं।


Types of keys in keyboard | कीबोर्ड में बटनों के प्रकार | कीबोर्ड के बटन के नाम

1. Function Keys

ये कीज़ कीबोर्ड में सबसे ऊपर स्थित होती हैं, इनकी संख्या 12 होती है। जो कि F1 से F12 द्वारा प्रदर्शित की जाती है। ये स्पेशल फंक्शन परफॉर्म करने के लिए बनी हुई हैं। इनका कार्य प्रत्येक सॉफ्टवेयर के अनुसार बदलता रहता है। ताकि समय की बचत हो सके। जो इस प्रकार है:-

Function keys      कार्य
F1Help प्राप्त करने के लिए।
F2सेलेक्ट किए हुए आइटम को को रिनेम करने के लिए।
F3फाइल एक्सप्लोरर या विण्डो एक्सप्लोरर में फाइल या फोल्डर को ढूंढने के लिए, सर्च बाक्स के द्वारा।
F4फाइल एक्सप्लोरर में ऐड्रेस बार होता है, जो कि फाइल या फोल्डर के ऐड्रेस को पाथ सहित प्रदर्शित करता है।
F5एक्टिव विण्डो को रिफ्रेस (Refresh) करने के लिए।
F6विण्डो या डेस्कटाप में विभिन्न elements के बीच मूव करने के लिए।
F7MS Word में स्पेलिंग व ग्रामर चेक करने के लिए।
F8MS Word में selection को extend करने के लिए जरूरत के अनुसार एक पैरग्राफ, एक पेज, या पूरे पेज को select करने के लिए।
F9MS-Word में document को रिफ्रेश करने के लिए।
MS-Excel में एक workbook की सभी worksheet कैल्कुलेट करने के लिए।
F10मेन्यू बार को एक्टिवेट करने के लिए।
F11एक्टिव विण्डो को मैक्सिमाइज या मिनिमाइज करने के लिए।
F12MS Word में save as डायलॉग बाक्स open हो जाता है।

2. न्यूमेरिकल की (Numerical keys) / आंकिक या संख्यात्मक कुंजी

एक Normal Keyboard में Numeric Keys Keyboard के Right Side में होता है। इसका उपयोग Number या अंक Type करने में होता है। यह Calculator के समान होता है। इसमें 0 से 9 तक के अंक साथ ही दशमलव (.), जोड़ (+), घटाव (-), गुणा (×), भाग (÷), एंटर, व, क्लियर, की बटने होती हैं, जिनका प्रयोग मैथमेटिकल कैलकुलेशन परफॉर्म करने के लिए किया जाता है।

3. अल्फाबेटिकल की (Alphabetical keys) या अक्षर कुंजी

Keyboard की वे बटनें जिनमें A से Z तक अक्षर अंकित होते हैं, अल्फाबेटिकल कीज़ कही जातीं हैं। इनकी संख्या 26 होती है। इनका प्रयोग कोई भी शब्द या Text लिखने के लिए किया जाता है।

4. एरो की (Arrow keys)  या दिशा निर्देशक कुंजियॉं

इन keys का प्रयोग कर्सर को स्क्रीन में कहीं भी (दाएं, बाएं, ऊपर, नीचे) ले जाने के लिए किया जाता है। इन बटनों  पर चार विभिन्न दिशाओं को प्रदर्शित करने वाले एरो के चिन्ह (,,,) बने होते हैं, इस कारण इन्हें Arrow Keys भी कहते हैं।

Keys के नाम     कार्य
Left Arrow  कर्सर को बांईं ओर ले जाने के लिए।
Right Arrow    →कर्सर को दांईं ओर ले जाने के लिए।
Up  कर्सर को ऊपर की ओर ले जाने के लिए।
Down  कर्सर को नीचे की ओर ले जाने के लिए।
Homeकर्सर को लाइन के शुरू में ले जाने के लिए।
Endकर्सर को लाइन के अन्त में ले जाने के लिए।
Page Upकर्सर को एक पेज पहले या Previous Page पर ले जाने के लिए।
Page Downकर्सर को Next Page पर ले जाने के लिए

5. Indicator Light

Computer Keyboard में तीन तरह के Light होते हैं। जिसे Indicator Light कहा जाता है। Keyboard पर उपस्थित तीनों Light में से पहला Light Numerical Keys के On/OFF का संकेत देती है। वहीं दुसरा Light Uppercase और Lowercase का संकेत तथा तीसरा Light Scrolling के बारे में संकेत देती है।

6. विराम चिन्ह की (Punctuation Mark keys)

वे सभी keys जिसमें Punctuation Mark अंकित होते हैं, Punctuation Mark keys कहलातीं हैं। ज्यादातर ये बटनें alphabet keys के दाहिनीं तरह स्थित होतीं हैं।

Sign (चिन्ह)Key’s Name
,comma
.Full stop
?Question mark
;Semicolon
:Colon
Single quotation mark
Double quotation mark
!Exclamation mark
/Backward Slash
\Foreword Slash

7. Special Purpose Keys

Special Purpose Keys का उपयोग विशेष कार्यों को करने के लिए प्रोग्राम किया गया होता है। बहुत सारे Special Purpose Key एक Normal Keyboard पर होता है। इसमें से अधिकांश Keys का उपयोग किसी दुसरे Keys के साथ करते हैं। चलिए सभी Special Purpose Key को विस्तार से जानते हैं।

1. Caps Lock Key

इस key को ऑन करने पर कीबोर्ड के दाएं साइड लगी LEDs में कैप्स लॉक वाली LED ऑन हो जाती है। इसे on कर के Alphabet keys को टाइप करने पर अक्षर, कैपिटल लेटर अर्थात Upper case में टाइप होते हैं। तथा पुनः एक बार दबा कर off या निष्क्रिय किया जाता है, जिससे दोबारा स्मॉल लेटर या लोअर केस (Lower case) में टाइप होना शुरू हो जाते हैं

2. Num Lock Key

इसके on होने पर भी इसके लिए कीबोर्ड के दाएं साइड लगी LED जल जाती है, और  नंबर पैड या न्यूमेरिकल पैड एक्टिव हो जाता है, जिससे हम अंक या संख्या को टाइप कर सकते हैं। पर यदि यह Key ऑफ है तो नंबर पैड की सभी बटनें directional arrow या cursor control key के रूप में कार्य करने लगतीं हैं। Num Lock key भी एक टॉगल की है।

3. Shift Key

Shift Key एक संयोजन बटन है। संयोजन बटन कहने का मतलब है कि इस बटन का उपयोग किसी और बटन के साथ करते हैं। आपने Computer Keyboard के बहुत सारे बटन पर दो Character अंकित देखा होगा है। तब ऐसे बटन के ऊपर वाले Character को Computer पर लिखने के लिए Shift Key के साथ उस बटन का प्रयोग करते हैं।

जैसे; Keyboard के 2 अंक वाले बटन के ऊपर @ है। अतः @ को Computer पर लिखने के लिए Shift Key के साथ 2 अंक वाले बटन को दबाना होगा। इसके साथ इसका उपयोग Alphabetical Keys को Uppercase और Lowercase में भी लिखने के लिए होता है।

जैसे; Shift Key के साथ किसी Alphabetical Keys को दबाने पर वह Uppercase में Computer पर लिखाएगा। वहीं अगर Caps Lock Key को सक्रिय कर Shift Key के साथ किसी Alphabetical Keys को दबाने पर Computer में वह Letter Lowercase में लिखाएगा।

Numerical Keys पर अंकित Directional Arrow का इस्तेमाल करने के लिए भी Shift Keys के साथ प्रयोग किया जाता है। एक Computer Keyboard में दो Shift Key होते हैं।

4. Enter Key

Computer में किसी भी कार्य को पूरा करने या निष्पादित करने के लिए Enter Key का प्रयोग किया जाता है। किसी Document या Text लिखते वक्त नये Paragraph के लिए इसका उपयोग होता है। Enter Key भी Computer के दो स्थानों पर होते हैं।

इस key का प्रयोग सेलेक्ट किये गए file या folder को ओपन करने के लिए किया जाता है। जैसे यदि कोई भी file या folder सेलेक्ट है, और हमने एक बार enter key प्रेस किया तो वह खुल जाता है।

5. Tab Key

Tab Key, Tabulator Key का संक्षिप्त नाम है। यह कर्सर को एक जगह से दूसरे जगह यानी एक Tab से दुसरे Tab में ले जाता है।

6. Esc Key

Esc key का पूरा नाम Escape key है। यह cancel (कैंसिल) बटन के समान कार्य करती है। मतलब यदि कोई भी कार्य कंप्यूटर में चल रहा है, यह प्रोग्राम open है, तो इस key को प्रेस करने पर वह बंद हो जाता है, या उससे बाहर आ जाता है।

इस बटन को Cancel बटन के समतुल्य समझा जाता है। क्योंकि इसके प्रयोग से चल रहे PowerPoint में Slide Show रुक जाता है। Load हो रहे Webpage रुक जाता है। Webpage पर चल रहे Animation रुक जाता है। लेकिन इसका प्रयोग Ctrl Keys के साथ करने पर Start Menu खुलता है।

7. Space Bar

कीबोर्ड में सबसे नीचे की ओर यह बटन होती है, और कीबोर्ड की सबसे बड़ी व लंबी बटन होती है।

8. Back Space Key

Back Space Key का उपयोग किसी Documents में या अक्षर, चिन्ह में कर्सर के ठीक बायीं ओर के जगह को मिटाने के लिए किया जाता है।

इस Key का प्रयोग कर्सर से ठीक बाएं तरफ के अक्षर, चिन्ह या space (जगह) को मिटाने के लिए किया जाता है।

9. Delete Key

Delete Key का उपयोग किसी Document में या किसी अक्षर, चिन्ह में कर्सर के ठीक दायीं ओर के जगह को मिटाने (Delete) के लिए किया जाता है। इससे Select जगह को भी मिटाया जा सकता है। साथ ही इस Key की हेल्प से सेलेक्ट किया गया टेक्स्ट, लाइन, पैराग्राफ, पेज, फाइल, फोल्डर, पिक्चर आदि को मिटाया जा सकता है।

10. Ctrl Key

Ctrl Key, Control Key का संक्षिप्त नाम है। इसे भी एक संयोजन बटन कहते हैं। इसे किसी और बटन के साथ दबाने पर विशेष कार्य करता है। जैसे; Ctrl Key के साथ C दबाने से Copy होता है। Ctrl Key विभिन्न सॉफ्टवेयर के साथ अपना कार्य बदलते रहते हैं। Ctrl Key भी Keyboard दो जगह होते हैं।

11. Print Screen Key

स्क्रीन पर दिख रहे मैटर (टेक्स्ट, इमेज आदि) को प्रिंट करने के लिए।

Print Screen Key का उपयोग Computer पर प्रदर्शित Screen का Screen short लेने के लिए किया जाता है।

12. Scroll Lock Key

Scroll Lock Key Computer पर चल रहे प्रोग्राम या Text को अस्थायी रुप में एक ही स्थान पर रोक देता है। पुनः पहले जैसा करने के लिए फिर से इस बटन को दबाना होता है।

13. Pause Key

Pause Key ऊपर Scroll Lock Key के पास स्थित होता है। यह बटन चल रहे प्रोग्राम को अस्थायी तौर पर रोक देता है। जिसे पुनः पहले जैसा करने के लिए किसी भी बटन को दबा सकते हैं। गेम खेलते वक्त गेम को बीच में रोकने के लिए इसी Pause बटन का उपयोग होता है।

14. Modifier Key

Modifier Key Computer Keyboard का एक विशेष बटन होता है। जो दुसरे बटन के साथ प्रयोग होता है और दुसरे बटन के कार्य को रुपांतरित करता है। जैसे; Alt बटन को F4 बटन के साथ प्रयोग करने से Windows को Shutdown और Restart करता है। इसमें Alt Modifier Key है। जो F4 के कार्य को रुपांतरित कर दिया।


Computer Keyboard से संबंधित प्रश्न और उनके उत्तर

1. Keyboard किसे कहते हैं?

जिससे Computer में Text, Numbers और Symbols आदि Input करते हैं। उसे Keyboard कहते हैं।

2. Keyboard का आविष्कार कब हुआ?

टाइपराइटर का अविष्कार वर्ष 1868 में हुआ था। Keyboard टाइपराइटर में परिवर्तन कर या विकसित कर के बनाया गया है।

3. Keyboard का आविष्कार किसने किया या खोज किसने किया?

टाइपराइटर का अविष्कार Christopher Soles ने किया था। बाद में टाइपराइटर को विकसित कर Keyboard बनाया गया।

4. Keyboard किस प्रकार का डिवाइस है?

Keyboard इनपुट डिवाइस है।

5. Keyboard को हिंदी में क्या कहते हैं?

Keyboard को हिंदी में कुंजीपटल कहते हैं।

6. Computer Keyboard का पूरा नाम क्या है?

Computer Keyboard का पूरा नाम Keys Electronics Yet Board Operating A to Z Response Directly होता है।

7. Computer में Keyboard का क्या काम है?

Computer में Keyboard का काम इनपुट करना होता है।

8.  Computer के Keyboard में कितने बटन होते हैं?

एक समान्य Computer Keyboard में 104 या 108 होते हैं।

9. Keyboard में Function Button की संख्या कितनी है?

Computer Keyboard में Function Button की संख्या 12 है। यह F1 से लेकर F12 तक होता है।

Conclusion – Keyboard in Hindi

keyboard in hindi – इस लेख में computer keyboard in hindiकी बहुत सी जानकारी बताया गया है। जैसे; Keyboard क्या है, Keyboard के इतिहास, Keyboard के प्रकार, कार्य और Computer Keyboard के Keys की पूरी जानकारी दिया गया है। अगर इसमे कोई कमी हो तो आप हमे कमेंट करके बता सकते हो ।


और पड़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!