somnath mandir in gujarat – सोमनाथ ज्योतिर्लिंग कथा

【Somnath mandir】

सोमनाथ मंदिर हिन्दूओं के प्रमुख तीर्थ स्थल में एक है। यह मंदिर भारत के पश्चिमी तट पर सौराष्ट्र के वेरावल के पास प्रभास पाटन में स्थित है। यह मंदिर गुजरात का एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थान और पर्यटन स्थल है। सोमनाथ मंदिर में स्थित ज्योति लिंग भगवान शिव के 12 ज्योति लिंग में से है तथा 12 ज्योति लिंगों में से सोमनाथ को सबसे पहला ज्योति लिंग माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इसका निर्माण स्वयं चन्द्रदेव ने किया था। इसका उल्लेख ऋग्वेद में भी मिलता है। सोमनाथ का अर्थ “सोम के भगवान” से है अर्थात् ‘चंद्र व चंद्रमा देवता की रक्षा’। इसलिए भगवान शिव को सोमेश्वर भी कहा जाता है अर्थात् ‘चंद्रमा का स्वामी’।

【सोमनाथ मंदिर किसका है 】

पौराणिक कथाओं के अनुसार  सोम अर्थात् चंद्र ने, दक्षप्रजापति राजा की 27 कन्याओं से विवाह किया था। लेकिन चंद्र देवता का सबसे प्रिय उनकी पहली पत्नी रोहिण से अधिक प्यार व सम्मान दिया करते थे। दक्षप्रजापति को यह देखकर अधिक क्रोधित हो गये और उन्होंने चंद्र देवता का शाप दे दिया कि अब से हर दिन तुम्हारा तेज क्षीण होता रहेगा। शाप से विचलित और दुःखी सोम ने भगवान शिव की आराधना शुरू कर दी। अंततः शिव प्रसन्न हुए और सोम-चंद्र के श्राप का निवारण किया। सोम के कष्ट को दूर करने के बाद भगवान शिव ने यहां ज्योति लिंग के रूप मे स्थापित हुये और उनका नामकरण ‘सोमनाथ’ हुआ।

somnath temple

ऐसी भी मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण भालुका तीर्थ पर विश्राम कर रहे थे। तब ही एक शिकारी उनके पैर के नीचे अर्थात् तलहुये में पद्मचिन्ह को हिरण की आंख समझकर तीर मारा था तब भगवान श्रीकृष्ण ने देह त्याग कर यहीं से वैकुंठ को प्रस्थान किया था। इस स्थान पर बड़ा ही सुन्दर कृष्ण मंदिर बना हुआ है

【सोमनाथ मंदिर पर आक्रमण करने वाला कोन था】

सोमनाथ मंदिर को कई बार तोडा व बनाया गया था। सोमनाथ मंदिर को कई राजाओं द्वारा तोड़ा गया था, आठवीं सदी में सिन्ध के अरबी गवर्नर जुनायद ने तोड़ा तथा प्रतिहार राजा नागभट्ट ने 815 ईस्वी में इसका तीसरी बार पुनर्निर्माण किया। 815 ई में महमूद गज़नबी ने सोमनाथ मंदिर को तोड़ा व पूरी तरह से लूट था तथा गुजरात के राजा भीम और मालवा के राजा भोज ने इसका पुनर्निर्माण कराया। पांचवी बार मुगल बादशाह औरंगजेब ने इसे पुनः 1706 में गिरा दिया तथा इस समय जो वर्तमान मंदिर है उसे भारत के गृह मन्त्री सरदार वल्लभ भाई पटेल ने बनवाया था।

सोमनाथ मंदिर हिंदू धर्म के उत्थान-पतन के इतिहास का प्रतीक रहा है। अत्यंत वैभवशाली होने के कारण इतिहास में कई बार यह मंदिर तोड़ा तथा पुनर्निर्मित किया गया था। वर्तमान मंदिर का पुननिर्माण भारत की स्वतंत्रता के बाद भारत के लौहपुरुष कहे जाने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल ने करवाया था जो कि सन् 1951 के पुरा हुआ था। पहली दिसंबर 1995 को भारत के राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा ने इसे राष्ट्र को समर्पित किया।

 (somnath mandir ) सोमनाथ मंदिर के मूल मंदिर स्थल पर मंदिर ट्रस्ट द्वारा निर्मित नवीन मंदिर स्थापित है। सौराष्ट्र के मुख्यमन्त्री उच्छंगराय नवल शंकर ढेबर ने १९ अप्रैल १९४० को यहां उत्खनन कराया था। इसके बाद भारत सरकार के पुरातत्व विभाग ने उत्खनन द्वारा प्राप्त ब्रह्मशिला पर शिव का ज्योतिर्लिग स्थापित किया है। 11 मई 1951 को भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ॰ राजेंद्र प्रसाद ने मंदिर में ज्योतिर्लिग स्थापित किया। नवीन सोमनाथ मंदिर 1962 में पूर्ण निर्मित हो गया।

सोमनाथ मंदिर ( somnath mandir) विश्व प्रसिद्ध धार्मिक व पर्यटन स्थल है। मंदिर प्रांगण में रात साढ़े सात से साढ़े आठ बजे तक एक घंटे का साउंड एंड लाइट शो चलता है, जिसमें सोमनाथ मंदिर के इतिहास का बड़ा ही सुंदर सचित्र वर्णन किया जाता है। लोककथाओं के अनुसार यहीं श्रीकृष्ण ने देहत्याग किया था। इस कारण इस क्षेत्र का और भी महत्व बढ़ गया।

【सोमनाथ मंदिर कैसे पहुंचे】- 

somnath temple

वायु मार्ग- सोमनाथ का निकटतम हवाई अड्डा दीव एयरपोर्ट है जो सोमनाथ से लगभग 63 किमी दूर है। दीव से सोमनाथ नियमित बसों, लक्जरी बसों या कम्यूटर बसों से पहुंचा जा सकता है। पोरबंदर हवाई अड्डा सोमनाथ से 120 किमी और राजकोट हवाई हड्डा 160 किमी दूर है। इन हवाई अड्डों के लिए विभिन्न शहरों से उड़ानें संभव हैं।

रेल मार्ग- सोमनाथ के सबसे समीप वेरावल रेलवे स्टेशन है, जो वहां से मात्र सात किलोमीटर दूरी पर स्थित है। यहाँ से अहमदाबाद व गुजरात के अन्य स्थानों का सीधा संपर्क है।

सड़क परिवहन- सोमनाथ वेरावल से 7 किलोमीटर, मुंबई 889 किलोमीटर, अहमदाबाद 400 किलोमीटर, भावनगर 266 किलोमीटर, जूनागढ़ 85 और पोरबंदर से 122 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। पूरे राज्य में इस स्थान के लिए बस सेवा उपलब्ध है।

विश्रामशाला- इस स्थान पर तीर्थयात्रियों के लिए गेस्ट हाउस, विश्रामशाला व धर्मशाला की व्यवस्था है। साधारण व किफायती सेवाएं उपलब्ध हैं। वेरावल में भी रुकने की व्यवस्था है।

【समय सारणी 】

दर्शन के समय : सुबह 6 बजे से शाम को 9 बजे।

आरती के समय : सुबह 7 बजे, दोपहर को 12 बजे और शाम को 7 बजे।

जय सोमनाथ साउंड एंड लाइट शॉ : शाम को 8 बजे से 9 बजे।

somnath mandir लगभग एक घंटे का शो, टिकट की कीमत 25 रुपये प्रति व्यक्ति और आधा टिकट 15 /- रुपये है। यह शो पौराणिक कहानी और स्थानों के महत्व के बारे में बताता है। यह प्रवासी तीर्थ के बारे में बताता है जहां भगवान कृष्ण अपना नश्वर शरीर छोड़कर स्वर्ग लौट गए।

यह मंदिर, मंदिर के सभी कोनों से विस्तृत सुरक्षा व्यवस्था प्रदान करता है। सभी भक्तों को मुख्य परिसर में प्रवेश करने से पहले सुरक्षा जांच से गुजारा जाता है।

मंदिर के अंदर मोबाइल,कैमरा और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस मान्य नहीं।


औऱ पढे


Category: भारत के प्रसिद्ध मन्दिर Tags: History of Somnath Temple attack in Hindi, Somnath Temple History in Hindi,somnath mandir,somnath mandir kha hai,somnath mandir in gujrat ,somnath mandir katha,somnath mandir kahaniसूरत से सोमनाथ मंदिर की दूरी, सोमनाथ मंदिर का इतिहास, सोमनाथ मंदिर का रहस्य, सोमनाथ मंदिर किस राज्य में स्थित है, सोमनाथ मंदिर किसने बनवाया, सोमनाथ मंदिर की कहानी, सोमनाथ मंदिर की स्थापना कैसे हुई, सोमनाथ मंदिर के दर्शन, सोमनाथ मंदिर के दर्शन दिखाओ, सोमनाथ मंदिर के बारे में, सोमनाथ मंदिर कैसे पहुंचे, सोमनाथ मंदिर पर आक्रमण कब हुआ

Leave a Reply